Ginny Weds Sunny Review | कनफ्यूजन ज्यादा, यामी-विक्रांत भी नहीं लगे एक दूजे के लिए

2.9k views | 1 month ago

नेटफ्लिक्स पर इस शुक्रवार (9 अक्टूबर) को गिन्नी वेड्स सनी रिलीज़ हुई है। प्यार में कन्फ्यूज़न के विषय पर हिंदी सिनेमा पर अनगिनत फ़िल्में बन चुकी हैं। यह उस पीढ़ी के युवाओं की कहानी है जिनका फेवरेट शब्द है कनफ्यूजन. खास तौर पर वह प्यार और रिलेशनशिप के स्टेटस में अक्सर कनफ्यूज पाए जाते हैं. ऐसे में विलेन कोई और नहीं बल्कि उनके अपने इमोशंस होते हैं. मंडप तक पहुंचने से पहले वह भावनाओं के जाने कितने जंगलों, पर्वतों, घाटियों में सफर कर आए होते हैं और अंत में भागते-भागते सात फेरे लेते हैं. कहानी सतनाम सेठी यानि सनी (विक्रांत मैसी) और गिन्नी (यामी गौतम) की है। दोनों दिल्ली की मिडिल क्लास पंजाबी फैमिली से ताल्लुक रखते हैं। सनी बहुत अच्छा कुक है। वो रेस्टॉरेंट खोलना चाहता है। मगर, उसके पिता (राजीव गु्प्ता) का मानना है कि पहले वो शादी करे। सनी को कई लड़कियां रिजेक्ट कर चुकी हैं। कोई रास्ता ना देख उसके पिता मैचमेकर शोभा जुनेजा (आएशा रज़ा मिश्रा) की मदद लेते हैं।