Prabhasakshi Special | MRI| नेहरू चाहते तो भारत में होता नेपाल | Nepal and Nehru | Pranab Mukherjee

854 views | 2 weeks ago

प्रणब मुखर्जी की ऑटोबायोग्राफी 'द प्रेसिडेंशियल ईयर्स' में बताया गया है कि विलय का प्रस्ताव नेपाल के राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम सिंह शाह द्वारा पंडित नेहरू को दिया गया था। लेकिन उस वक्त नेहरू ने इस ऑफर को ठुकरा दिया था। नेहरू का कहना था कि नेपाल स्वतंत्र राष्ट्र है और इसे स्वतंत्र ही रहना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय गठबंधनों की राजनीति चीन के खिलाफ थी और गोवा के विलय से भारत के खिलाफ विरोध था। जिसकी वजह से पंडित नेहरू नेपाल को भारत में मिलाने को संभव नहीं माना। लेकिन नजदीकी रिश्तों की बात 150 की संधि में जरूर थी, जो राणा के समय में हुई थी।